मध्य प्रदेश : जेलों के कोविड-19 संक्रमित कैदियों की संख्या हुई नौ

April 21, 2020

 मध्यप्रदेश की जेलों के कोविड-19 संक्रमित कैदियों का आंकड़ा सोमवार को नौ पर पहुंचने के बाद कारागार परिसरों में बंदियों से उनके सगे-संबंधियों और मित्रों की मुलाकात पर जारी प्रतिबंध को पांच मई तक के लिये बढ़ा दिया गया। जेल विभाग के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) संजय पांडेय ने बताया कि कोविड-19 से बचाव की सावधानी के तौर पर पहले यह प्रतिबंध 25 अप्रैल तक के लिये लगाया गया था। महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इस पाबंदी को पांच मई तक के लिये बढ़ा दिया गया है। पांडेय ने बताया कि फिलहाल सूबे की 131 जेलों में करीब 39,000 कैदी बंद हैं। उन्होंने बताया, "अब तक इंदौर की जेल के छह, जबलपुर की जेल के एक और सतना की जेल के दो कैदियों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसके बाद इन्हें अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।" डीआईजी ने बताया कि जबलपुर और सतना की जेलों के जिन कैदियों में कोविड-19 की पुष्टि हुई, उन्हें इंदौर में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं तथा पुलिस कर्मियों पर पथराव की अलग-अलग घटनाओं में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत गिरफ्तार करके इन कारागारों में भेजा गया था। उन्होंने बताया, "इंदौर से सतना की जेल भेजे गये दो रासुका बंदी फिलहाल भोपाल के एक अस्पताल में भर्ती हैं।" इससे पहले, इंदौर की केंद्रीय जेल के चार कैदी सोमवार को कोविड-19 से संक्रमित पाये गये। इसके बाद जेल में इस महामारी की जद में आये कैदियों की तादाद बढ़कर छह पर पहुंच गयी है।इंदौर, देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में शामिल है।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload