पार्टी अब सत्ता की तलाश करने का मंच रह गई है, - वरिष्ठ BJP नेता गेगांग अपांग

January 17, 2019

7 बार के विधायक व 23 वर्ष CM रहे गेगांग अपांग ने दिया इस्तीफा

 

 

आगामी लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा (BJP) को बड़ा झटका लगा है, पूर्वोत्तर के राज्य अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री (Ex-CM) और वरिष्ठ नेता गेगांग अपांग (Gegong Apang) ने पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने ट्वीट (Tweet) करते हुए लिखा कि अब मैं जमीनी स्तर से जुड़ी समस्याओं पर ध्यान दूंगा। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष को लिखी चिट्ठी में कहा कि इस बात से निराश हूं कि पार्टी अब स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) के सिद्धांतों का पालन नहीं कर रही है।

भाजपा (BJP) छोड़ते हुए अपांग (Apang) ने कहा कि पार्टी अब सत्ता की तलाश करने का मंच है। यह ऐसे नेतृत्व में है जो विकेंद्रीकरण और लोकतांत्रिक फैसले लेने की प्रक्रिया को पसंद नहीं करते हैं। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष को लिखे पत्र में आगे लिखा कि अब यहां उन मूल्यों को कोई नहीं मानता है जिनके लिए पार्टी की स्थापना हुई थी। उन्होंने कहा कि भाजपा (BJP) को 2014 में राज्य में लोगों का जनादेश नहीं मिला तो स्वर्गीय कलिखो पुल को सीएम (CM) बनाने के लिए हर गंदी चाल चली। 
अपांग ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के विरोध के बाद भी प्रदेश में बीजेपी (BJP) की सरकार बनाई गई। बीजेपी नेतृत्व ने पूर्वोत्तर में कई अन्य बीजेपी सरकारों के गठन के दौरान नैतिकता का कोई ख्याल नहीं रखा।  उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले पेमा खांडू को सीएम (CM) बनाने का फैसला न तो उस नियम के अनुरूप है और न ही उस परंपरा के मुताबिक है, जिसका बीजेपी जैसी कैडर आधारित पार्टी (Party) अनुसरण करती है।

 अपांग ने 10-11 नवंबर को हुई राज्यस्तरीय कार्यकारिणी की बैठक का भी जिक्र किया और कहा कि इस दौरान बीजेपी महासचिव राम माधव ने कई सदस्यों और पदाधिकारियों को अपने विचार तक नहीं रखने दिए थे। अपांग ने अपने इस्तीफे में लिखा, ''मैं 7 बार विधायक रह चुका हूं और 23 साल तक राज्य का मुख्यमंत्री रह चुका हूं। मैंने भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता- इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, वीपी सिंह, आई के गुजराल, एचडी देवगौड़ा, चंद्रशेखर, अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह के साथ काम किया।''

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload