निर्मल गंगा नहीं होने पर जनता मोदी सरकार को मानेंगे दोषी

May 23, 2018

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गंगा की सफाई का काम अगर पूरा नहीं होता है तो लोग अधिकारियो को नहीं मोदी सरकार को दोष देगी । जल संसाधन और गंगा पुनरुद्धार मंत्री ने मंगलवार को कहा कि अगर काम पूरा नहीं हुआ तो नौकरशाहों को कोई नहीं पूछेगा बल्कि हम दोषी ठहराए जाएंगे । लोग  कहेंगे कि नरेंद्र मोदी सरकार ज्यादा कुछ नहीं कर पाई। जिम्मेदारी मिलने के बाद नितिन गडकरी ने भी कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि लालफीताशाही वाले नौैकरशाह उन्हें पसंद नहीं हैं। अगर नौकरशाह काम नहीं करते हैं तो उनकी विश्वसनीयता चली जाती है।

नमामि गंगे परियोजना गंगा की सफाई का राष्ट्रीय मिशन है। यह मोदी सरकार की प्रमुख परियोजनाओं में से एक है साथ ही काशी नगर की चुनावी बेला का प्रमुख नारा था। गडकरी को जल संसाधन, नदी विकास और गंगा पुनरुद्धार मंत्रालय का प्रभार पिछले साल सितंबर में ही सौंपा गया है। नौकरशाहों के निठल्लेपन से नाराज गडकरी पहले भी नकारात्मक सोच और आराम तलबी पर उन्हें फटकार लगा चुके हैं।

गडकरी ने स्पष्ट कहा कि, 'मुझे वह लोग पसंद हैं जो काम करके दिखाते हैं।' मुझे अफसरों के किसी भी निर्णय से कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन लोग सालों तक रिपोर्ट तैयार करते हैं और कोई काम नहीं होता है। इसलिए आपकी विश्वसनीयता खो चुकी है।

उन्होंने कहा कि जो रिपोर्ट तैयार हो चुकी हैं उन्हें लागू किया जाना चाहिए। यह ठीक है कि रुपये के लेन-देन का कोई आडिट नहीं हुआ है। लेकिन कामकाज का आडिट तो होना ही चाहिए।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload