बंद नल-जल योजनाओं को तत्काल चालू किया जाये - मुख्यमंत्री चौहान

April 5, 2018

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कहीं पर भी पेयजल संकट नहीं होना चाहिये। शीघ्र समुचित व्यवस्था की जाये। बंद नल-जल योजनाओं को तत्काल चालू किया जाये और खराब हेण्डपम्पों को सुधारा जाये। मुख्यमंत्री चौहान आज यहाँ लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा कर रहे थे। इस मौके पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव, मुख्य सचिव बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।

 

 

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जहाँ पर कोई भी जल स्रोत नहीं होने से पेयजल की समस्या हो वहाँ तत्काल हेण्डपम्प लगायें या अन्य जरूरी उपाय करें। उन्होंने कहा कि कार्य गुणवत्ता पूर्ण होना चाहिये। उन्होंने कहा कि जल निगम द्वारा क्षेत्र की आवश्यकताओं को देखते हुये योजनायें बनाई जायें, जिससे पूरे गांव को पेयजल उपलब्ध हो सके।

इस दौरान बताया गया कि प्रदेश में 5 लाख 38 हजार हेण्डपम्प तथा 15 हजार 501 नल - जल योजनायें संचालित हैं। मुख्यमंत्री ग्राम नल-जल योजनार्न्गत 4 हजार 899 सफल जल स्रोत निर्मित किये गये। गर्मी के मौसम के देखते हुये सभी जगह पर्याप्त पाइप एवं अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध करायी गयी है। बैठक में जल निगम के निविदा दस्तावेजों में संशोधन का अनुमोदन किया गया। जल निगम द्वारा 7 नई योजनायें स्वीकृत की गई है। इनके अलावा 12 योजनायें पूर्ण हो गई हैं एवं 22योजनायें प्रगति पर है, जिनसे 1910 ग्राम लाभान्वित होंगे।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वित्त ए.पी.श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास रजनीश बैश्य, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन आर.एस.जुलानिया, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी  प्रमोद अग्रवाल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एस.के.मिश्रा एवं विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload