दूसरे देश से खेलने का श्रीसंत का सपना भी टूटा

October 21, 2017

 

 

स्पॉट फिक्सिंग के भंवर में फंसे पूर्व तेज गेंदबाज एस. श्रीसंत के लिए कुछ भी सही नहीं चल रहा है। क्रिकेट की दुनिया में वापसी के लिए उतावले श्रीसंत ने कहा है कि अगर उन्हें अपने देश में खेलने नहीं दिया जाता है तो वह किसी और देश के लिए खेल सकते हैं।

हालांकि तुरंत ही बीसीसीआई ने उनके इस मंसूबे पर पानी फेर दिया। श्रीसंत के इस बयान के बाद बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना ने कहा है कि आईसीसी के नियमों के मुताबिक, यदि किसी क्रिकेटर पर एक देश में प्रतिबंध है तो वो किसी और देश में भी नहीं खेल सकता है।

मालूम हो, केरल हाई कोर्ट ने मंगलवार को श्रीसंत पर बीसीसीआई की ओर से लगाए आजीवन प्रतिबंध को बरकरार रखते हुए एकल पीठ के फैसले को रद्द कर दिया था। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लागू रहेगा।

इसके बाद श्रीसंत ने कहा है कि मुझे बीसीसीआई ने प्रतिबंधित किया है, न कि आईसीसी ने। यदि मैं भारत के लिए नहीं खेलता हूं तो किसी और देश के लिए खेल सकता हूं। मैं अभी 34 साल का हूं और मेरे अंदर और अगले छह वर्षो तक क्रिकेट खेलने की क्षमता है। जो लोग क्रिकेट से प्यार करते हैं मैं उनके लिए फिर से खेलना चाहता हूं।

बीसीसीआई ने 2013 में आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था, जिसे केरल हाई कोर्ट की ही एकल पीठ ने इस वर्ष सात अगस्त को रद कर दिया था। इससे पहले दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने जुलाई 2015 में श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला समेत सभी 36 आरोपियों को आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload