रतलाम के जावरा में एटीएम से 17 लाख रूपए गायब

September 14, 2017

 

रतलाम जिले के  जावरा में एक एटीएम से 17 लाख रूपए चोरी होने का खुलासा हुआ है। उल्लेखनीय है की कुछ दिनों पूर्व रतलाम जिले के कलेक्टर कार्यालय के एटीएम से 21 लाख रूपए चोरी हो जाने की घटना में शामिल अपराधियों द्वारा ही इस  वारदात को अंजाम दिया है।  जावरा के एटीएम से अलग-अलग अवधि में रूपयों की चोरी की गई। बैंक अधिकारियों की जांच में खुलासा हुआ कि रूपए चोरी होने के मामले में रूपए लोड करने वाली कंपनी सेफगार्ड का ऑडिटर भी शामिल है, एटीएम से रूपए कम होते रहे और ऑडिटर हिसाब में गढ़बढ़ी कर इस पर पर्दा डालता रहा।

इसी महीने 2 तारीख को कलेक्टर कार्यालय स्थित एटीएम से 21 लाख रूपए चोरी हुए थे। पुलिस ने तत्परता बरतते हुए 72 घंटे में ही मामले का खुलासा कर दिया। रूपए चोरी करने वाले लोग एटीएम में रूपए लोड करने वाली एजेंसी सेफ गार्ड के ही कर्मचारी निकले। 4 आरोपी कमलेश पिता शंकरलाल मालवीय, हरीओम पिता रमेश मालवीय, हरीओम पिता कालूराम मालवीय और अनिल पिता भेरूलाल चौहान निवासी ग्राम धामेड़ी को गिरफ्तार किया गया। कमलेश इस वारदात का मास्टरमाइंड था। वहीं जावरा में भी एटीएम में रूपए लोड करने का काम करता था। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद बैंक ने अपनेस्तर पर भी जांच शुरू की थी। बैंक अधिकारियों को पता चला है कि कमलेश ने ऑडिटर की मिलीभगत से जावरा स्थित एटीएम से भी अलग-अलग समय में 17 लाख रूपए चुराए है। यह गलती इसलिए तत्काल नहीं पकड़ी जा सकी क्योंकि ऑडिटर हिसाब में गढ़बढ़ी कर पर्दा डाल देता था। यह ऑडिटर भी कमलेश का रिश्तेदार ही है और इसी ने कमलेश को सेफ गार्ड कंपनी में नौकरी पर रखवाया था। गुरूवार को बैंक के अधिकारियों ने एसपी अमित सिंह से मुलाकात कर जावरा स्थित एटीएम से भी रूपए चोरी होने की जानकारी दी। एसपी सिंह के अनुसार इस मामले में भी जांच के उपरांत जावरा थाने में आरोपियों के खिलाफ एक ओर प्रकरण दर्ज किया जाएगा।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload